Monday, June 15, 2009

तेजेन्द्र शर्मा और ज़ाकिया ज़ुबैरी ने इंदु शर्मा की याद में की एक लम्बी पद-यात्रा



लंदन
जाने माने कथाकार एवं कथा यू.के. के संस्थापक तेजेन्द्र शर्मा, उनकी पुत्री दीप्ति एवं कॉलिण्डेल क्षेत्र की लेबर पार्टी काउंसलर एवं एशियन कम्यूनिटी आर्ट्स की मुखिया श्रीमती ज़कीया ज़ुबैरी ने स्वर्गीय इन्दु शर्मा की स्मृति में एक 10 किलोमीटर की दूरी पैदल चल कर पूरी की। इस वॉक का आयोजन एक कैंसर चैरिटी कैंसर-किन ने किया था जो कि हैम्पस्टेड इलाक़े के रॉयल फ़्री हस्पताल से जुड़ी है।

पैदल चलते हुए ज़कीया जी, दीप्ति एवं तेजेन्द्र ने यह दूरी 2 घंटे और 10 मिनट में पूरी की और कैंसर चैरिटी के लिये 500.00 पाउण्ड इकट्ठे किये। कथा यू.के. एवं एशियन कम्यूनिटी आर्ट्स के पदाधिकारी कैंसर से जुड़े कार्यक्रमों में सक्रिय रूप से भाग लेते हैं। ज़कीया जी हर साल ऐसे आयोजनों में अपनी मित्र अदीबा, अपनी बड़ी बहन और इंदु जी की याद में भाग लेती हैं।







आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

10 पाठकों का कहना है :

Udan Tashtari का कहना है कि -

बधाई एवं शुभकामनाऐं

Vijay Kumar Sappatti का कहना है कि -

ye to bahut acchi baat hai ..ek jaagurtata ka ahsaas karati hui inintiative hai ... cancer ek jaanlewa rog hai ....aise programs logo me jaagruta laate hai ..main shri tejendra ji ka dukh samajh sakta hoon aur unki is tarah ke aayojano ki tareef karta hoon ..

hind yugm ko is post ke liye badhai ....

madhu. का कहना है कि -

Katha Uk aur Asian Community Arts ne Cancer ke liye jo paidal yatra kee, sach mein sarahaneey hai.

bhavishya mein bhee wey aisee yaatraoN ke jariye cancer ke prati jaagrukata ka sandesh deiN, yahi shubh kamana aur sabse badi baat ki iss satkary mein tejendra sharma kee beti deepti sharma bhee theeN, ye aur bhee anukarneeya hai ki hamaree nayee generation bhee aise kaary se jude.

hindyugm ka aabhar ki iss khabar tarzeeh dete huey isko prakashit kiya.

सतपाल का कहना है कि -

aapkee ye ek sachchi shradanjle hai Indu ji ke liye.

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` का कहना है कि -

मैंने ये लिंक देखा और तस्वीरें भी देखीं -
बहुत अच्छा प्रयास है
और खुशी हुई ये जानकार
आप लोग सफलता से इस
" वोक " में ,
शामिल हुए ..
चि . दीप्ति बिटिया को
स्नेह - आशिष
इन्दु जी के बारे में
" साहित्य शिल्पी " पर
आलेख बहुत मर्मस्पर्शी लगा
उनकी शख्शियत ,
आज भी
जगमगाते चंद्रमा की तरह ,
मन को आनंदित कर देती है .
वे आज भी आपके साथ हैं ...
ये मेरा विश्वास है ...
सादर,
- लावण्या

शैलेश भारतवासी का कहना है कि -

इंदु शर्मा का नाम एक अमर नाम है।

कैंसर पीड़ितों के लिए धन इकट्ठा करने के लिए साधुवाद।

Manju Gupta का कहना है कि -

Propkarita ka udharan hai.Indu ji madhyam bani. yeh chitra dekh kar Mumbai ki marathon yaad aa gayi.


Manju Gupta.

veethika का कहना है कि -

aapane vyakti ko saamshthi men parivartit kar diya hai. meri shubhakamanaen apake sath hain.
Vijay

Shamikh Faraz का कहना है कि -

जाने माने कथाकार एवं कथा यू.के. के संस्थापक तेजेन्द्र शर्मा, उनकी पुत्री दीप्ति एवं कॉलिण्डेल क्षेत्र की लेबर पार्टी काउंसलर एवं एशियन कम्यूनिटी आर्ट्स की मुखिया श्रीमती ज़कीया ज़ुबैरी ने स्वर्गीय इन्दु शर्मा की स्मृति में एक 10 किलोमीटर की दूरी पैदल चल कर पूरी की जो की वाकई काबिले तारीफ कम है. बधाई.

Anonymous का कहना है कि -

साहित्य मे हमे इस तरह की बातों को तरजीह नहीं देनी चाहिए ..ये प्रेमचंद और तमाम उन लोगो का अपमान है जिन्होंने साहित्य को परिवर्तन का जरिए माना ..दुःख है की सभी इस बात की तारीफ़ मे लगे है......

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)