Tuesday, September 22, 2009

जयपुरियर स्कूल ने राष्ट्रभाषा हिंदी की प्रगति और विकास हेतु मनाया हिंदी सप्ताह



सानपाड़ा, नवी मुम्बई । 18 सितम्बर 2009

भाषा हमारे और आपके विचारों का माध्यम है। हिंदी को राष्ट्रीय भाषा का गौरव देने के लिए हिंदी में लिखते थे। बाल गंगाधर तिलक ने कहा "देश की अखंडता-आजादी के लिए हिंदी पुल है"।

पूरा देश 14 सितम्बर को 'हिंदी दिवस' के रूप में मनाता है। जयपुरियर स्कूल (अंग्रेजी माध्यम) ने हिंदी भाषा को बढावा देने के लिए उस दिन प्रार्थना सभा से लेकर सारे दिन का काम हिंदी में किया और हिंदी सप्ताह में छात्रों की क्षमतानुसार प्राथमिक और माध्यमिक कक्षाओं के लिए तरह-तरह की स्पर्धा रख जैसे कविता वाचन, एकांकी, नैतिक कहानी क्विज, पर्यायवाची, मुहावरे, पहेलियाँ, विलोम, हिंदी साहित्य के प्रश्न, सुलेख, चित्र देख कर नाम बताओ सही उच्चारण के साथ आदि स्पर्धा रखी गयी थी। विशेष कार्यक्रम में "भारत की विविधता में एकता" दर्शाने के लिए बच्चों ने कवि सम्मेलन किया था।

प्राथमिक और माध्यमिक कक्षाओं के लिए केवल एक विजेता ट्राफी थी। इस चमचामाती ट्राफी को कक्षा 2 ने जीता। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्रीमती रश्मि (मैनेजर) और अध्यक्षा श्रीमती ज्योत्स्ना भटनागर (प्रचार्या) थी। रश्मि जी ने हिंदी का महत्व देते हुए प्रतिभागी छात्रों के मनोबल, कार्यक्रम की प्रसंशा की। स्कूल की प्रचार्या ने 'हिंदी सप्ताह' को सामाजिक, सांस्कृतिक एकता की कड़ी के रूप में चरितार्थ किया।

इस सफल कार्यक्रम का श्रेय हिंदी अध्यापिका, संचालिका मंजू गुप्ता को जाता है। जिन्होंने अपने अनुभवों से 'हिंदी सप्ताह' में चार चाँद लगाये और कहा- "हिंदी का भविष्य आनेवाली पीढ़ी के हाथों में सुरक्षित है"।

विविध स्पर्धाओं की फोटो भी संलग्न हैं-










आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

3 पाठकों का कहना है :

Sumita का कहना है कि -

मन्जू गुप्ता जी आपके सन्चालन में हिन्दी की प्रगति और विकास हेतु मनाए गये हिन्दी सप्ताह के लिए आप बधाई की पात्र हैं। हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

Shamikh Faraz का कहना है कि -

तस्वीरे देखकर अच्छा लगा. हिंदी प्रचार की बात सुनकर अच्छा लगा.

Manju Gupta का कहना है कि -

हिंद -युग्म खुद हिंदी की मिसाल है .जिन्होंने 'हिंदी दिवस' की खबरों se पाठक को लाभान्वित किया .इस महापर्व पर हिंद -युग्म को हार्दिक बधाई देती हूं कि हमारे स्कूल को भी प्रकाशित किया.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)