Tuesday, December 1, 2009

निमंत्रण: हिन्दी ब्लॉगिंग के विषय विशेष पर प्रकाशित पहली पुस्तक के विमोचन कार्मक्रम का

(विवरण देखने के लिए नीचे के चित्र पर भी क्लिक कर सकते हैं)


हिन्दी की बहुचर्चित वेबपत्रिका हिन्द-युग्म प्रेमचंद सहजवाला द्वारा लिखित पुस्तक ‘भगत सिंहः इतिहास के कुछ और पन्ने’ के विमोचन कार्यक्रम और विचार गोष्ठी में आपको आमंत्रित करता है। हिन्दी ब्लॉगिंग में यह पहली बार है कि किसी खास विषय पर क्रमवार प्रकाशित लेखों को पुस्तक की शक्ल दी गई है। इससे भी पहले भी 1-2 बार हिन्दी ब्लॉगों ने अपनी स्मारिका या काव्य-संग्रह, कहानी-संग्रह जैसी पुस्तकें प्रकाशित किये हैं, लेकिन किसी व्यक्तित्व को समर्पित लेखों की शृंखला प्रकाशित करने का यह पहला मौका है। कार्यक्रम में पधारकर हमारा प्रोत्साहन करें। कार्यक्रम का विवरण निम्नवत् है-

‘भगत सिंहः इतिहास के कुछ और पन्‍ने’ पुस्तक का विमोचन और विचार गोष्ठी

विचार गोष्ठी के विषय-
1॰ बदलते दौर में युवा चेतना और भगत सिंह की परम्परा
2॰ हिन्दी में इंटरनेटीय रचनाकर्म- कितना गंभीर, कितना असरदार

मुख्य अतिथि- विभूति नारायण राय (वरिष्ठ साहित्यकार और महात्मा गाँधी अंतरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय, वर्धा के कुलपति)
अन्य विशिष्ट अतिथि व वक्‍ता-
प्रो॰ चमन लाल (चर्चित लेखक, भगत सिंह के दुलर्भ दस्तावेजों और चिट्ठियों के संकलनकर्त्ता तथा संपादक, जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय शिक्षा संघ के अध्यक्ष)
हिमांशु जोशी (प्रसिद्ध कथाकार)
पंकज बिष्ट (प्रसिद्ध कथाकार और 'समयांतर' के संपादक)
संचालन- प्रमोद कुमार तिवारी, युवा कवि

स्थानः गाँधी शांति फाउँडेशन (प्रतिष्ठान) सभागार (221/223, दीन दयाल उपाध्याय मार्ग, आई टी ओ के पास), नई दिल्ली
दिन व समयः शनिवार, 12 दिसम्बर 2009, शाम 5 से 8 बजे तक
चाय का समयः शाम 5 से 6 बजे तक

धन्यवाद।


निवेदक-
शैलेश भारतवासी (नियंत्रक व प्रधान सम्पादक)
रामजी यादव (संयोजक)
हिन्द-युग्म
(www.hindyugm.com)

टेलीफोन-
9899706702 (प्रेमचंद सहजवाला)
9015634902 (रामजी यादव)
9873734046 (शैलेश भारतवासी)

Bhagat Singh: Itihas Ke Kuchh Aur Panne

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

6 पाठकों का कहना है :

Arvind Mishra का कहना है कि -

मेरी शुभकामनाएं!

शोभना चौरे का कहना है कि -

karykram ke liye anek shubhkamnaye .

रश्मि प्रभा... का कहना है कि -

शुभकामनाएं

राजीव तनेजा का कहना है कि -

मैँ तो आ रहा हूँ

Sumita का कहना है कि -

प्रेमचन्द जी को बहुत-बहुत शुभकामनाएं और बधाई ! खबर के लिए हिन्दयुग्म को धन्यवाद!

sumit का कहना है कि -

मेरी तरफ से बहुत बहुत शुभ कामनाये

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)